shashwat bol

kahte sunte baaton baaton me ...

86 Posts

77 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 19050 postid : 1357583

आपको अब क्या कहना...

Posted On: 3 Oct, 2017 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बड़े जतन से जोडे प्रश्नोत्तर की “मिलन कुमारी (कॉपी )”                                                                                                                                                                                             देखा एक दिन भरबित्ते की सजी आलमारी ,                                                                                                                                                                                                              हाय “मिली “मिली भी ना ,
अब कैसे हो दिल की दिल से यारी,                                                                                                                                                                                              
सूखे सावन- भादो,ग्रहण लगे घर – अंगना ,
  आपको अब क्या कहना …….                                                                                                                                                                                                                       
पुराने इतिहास पुरुषों के कागजी नजराने
ओझल हुए जैसे आज रह गए मगज मराने ,
ओह क्षमा करना वीरगति से अफ़साने ,                                                                                                                                                                                                                  

सूखे सावन – भादो , ग्रहण लगे घर -अंगना ,
आपको अब क्या कहना ……..                                                                                                                                                                                                                       
आने जाने वाले को आ जाएँ होश ,                                                                                                                                                                                                                         
पता पा जाएँ कैसे इनको हुए इत्ता जोश ,                                                                                                                                                                                                                 
कहाँ किसके है डर, किसे है जाना किस रोज ,                                                                                                                                                                                                            
सूखे सावन -भादो , ग्रहण लगे घर -अंगना ,
आपको अब क्या कहना ………                                                                                                                                                                                                                   
गलने लगी दाल ससुराली , जीजा करें रखवाली                                                                                                                                                                                                       
बाँट किये बिन अंदर ही चल निकली दलाली ,                                                                                                                                                                                                         
दम साधे कितना , कौन करे हिलहवाली,                                                                                                                                                                                                               
सूखे सावन -भादो , ग्रहण लगे घर -अंगना ,
आपको अब क्या कहना ……….                                                                                                                                                                                                                       
कहा इक दिन, सुनिए अच्छा नहीं किया ,                                                                                                                                                                                                 
कागजी बोझ फेंक गलित कर लिया ,                                                                                                                                                                                                              
उन्होंने कहा ये बोझ नहीं लोच है,                                                                                                                                                                                                                         
इसमें खाली मनसंतोष का खोंच है ,                                                                                                                                                                                                                      
सूखे सावन -भादो , ग्रहण लगे घर -अंगना,
आपको अब क्या कहना …..                                                                                                                                                                                                                           
ना रहा जब घर “वसन ना धृत ढेला” ,
उड़ाएं उपहास फुलझरी , करेला बनने लगे बेला ,
जीवन संग्राम हुआ , उन सबको भाए ये खेला ,
सूखे सावन -भादो , ग्रहण लगे घर -अंगना ,
आपको अब कहना क्या……..
सपने में आ ही गए कविवर आत्मानंद औ चेला ,
बोले अब तलक़ जित्ते बांच लिए , सब नहीं था रे रेला ,
लोहा से लोहा कटे, मेला को झमेला ,
सूखे सावन -भादो , ग्रहण लगे घर -अंगना ,
आपको अब क्या कहना ………

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran